View Single Post
  #68  
Old May 3rd, 2011, 12:04 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
नस्ल बदली -किस्मत बदली

कुत्ता है बेटा -कुत्ता
बड़े लोगों का कुत्ता
बाप ने नन्हे बच्चे को
समझाते हुए कहा
आँखें ढपी हैं ना
आँखें नहीं मिलाता
पर जानता है
पहचानता है
बड़े कुत्तों को !!
थानेदार ,यस पी को
नेता , सफ़ेद पोश को
दुम हिलाता है
घुसने देता है
मुंह कभी तो चाटता है
और उनके तलवे भी
छोटे कुत्तों को छोटे जीव को !
डांटता है -खाने को दौड़ता है !!
ऐसे ही !!
मांस खाता है ,
खून पीता है ,
बिस्कुट और दूध भी ,
दर-दर भटकते हैं ,
माँ बाप मरते हैं ,
खाने को - पानी को
दोगला है -नस्ल बदली
किस्मत बदली
फिर छाएगी बदली
चल बेटा चल
पानी मिलेगा
आगे !!
धूप बड़ी तेज है
माथे पे पसीना है
धूप अब
भागे !!!

एक आँखों देखी घटना पर आधारित- एक भूखा प्यासा गरीब सा आदमी बच्चे के साथ चिलचिलाती धूप में जाता -प्यासा -किसी बड़े आलीशान भवन के आगे अहाते के पास सजी वाटिका में पानी देख प्यास बुझाने को आतुर होता है लेकिन बीच में एक बड़ा कुत्ता भौं भौं कर उसके प्यास बुझाने के इरादे को नाकामयाब कर देता है और बाकि वहां कोई चिड़िया भी दर्शन नहीं देती -

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
१.५.२०११
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote