View Single Post
  #1  
Old October 28th, 2015, 04:13 AM
PeaceSeeker PeaceSeeker is offline
In search of peace!
 
Join Date: Sep 2010
Location: Borderline
Posts: 6,175
PeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond reputePeaceSeeker has a reputation beyond repute
"Secular" news thread

This thread is for the "secular" news which does not find mention in mainstream media, print or electronic, because no_need_to_fill_in_the_blanks.

This one is from Mumtaz's Bengal.

Durga pooja "banned" in West Bengal's village.

Quote:

कोलकाता

एक ओर जहां बंगाल दुर्गा पूजा के अपने त्योहार और उसे मनाने के खास अंदाज के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है, वहीं पश्चिम बंगाल के नलहाटी गांव में हिंदू समुदाय के लोग साल 2012 से ही दुर्गापूजा का त्योहार नहीं मना सकते। ऐसा नहीं कि राजधानी कोलकाता से 350 किलोमीटर की दूरी पर स्थित वीरभूम जिले के इस नलहाटी गांव के लोग त्योहार मनाना नहीं चाहते हैं, बल्कि उन्हें इसकी इजाजत ही नहीं दी जाती है।

स्थानीय लोगों ने जिला प्रशासन व संबंधित अधिकारियों से कई बार इस बारे में अनुमति मांगने की कोशिश की, लेकिन अज्ञात कारणों के कारण हर बार उनकी अपील को ठुकरा दिया गया। साल 2012 से यहां के लोग काफी कोशिश करने के बाद भी दुर्गा पूजा का आयोजन नहीं कर पाते हैं। इस मुद्दे को लेकर ट्विटर पर एक जंग छि़ड़ी हुई है। काफी संख्या में लोग ट्वीट कर इस मसले पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। लोग सवाल उठा रहे हैं कि दादरी कांड और बीफ बैन पर खुलकर बोलने वाली ममता बनर्जी इस मसले को लेकर चुप क्यों हैं?

ट्विटर पर इस मसले को लेकर काफी संख्या में लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। #DurgaPujaBan के साथ ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है...
न्यूज एक्स की एक खबर के मुताबिक, स्थानीय हिंदू ग्रामीणों ने ऑन रिकॉर्ड यह दावा किया है कि स्थानीय मुस्लिम समुदाय के लोगों ने हिंदुओं को दुर्गा पूजा का आयोजन करने देने की अनुमति न देने का दबाव बनाया है। प्रशासन का दावा है कि हिंदू समुदाय द्वारा दुर्गा पूजा का आयोजन किए जाने पर पूरे गांव का में तनाव फैल जाएगा और यह शांति-व्यवस्था के लिए एक खतरा है। प्रशासन की इसी आशंका के कारण इस गांव में रहने वाले हिंदू समुदाय के लोग पिछले 4 साल से दुर्गा पूजा का आयोजन नहीं कर पा रहे हैं।

बताया जाता है कि यहां के मुस्लिम समुदाय के लोगों ने स्थानीय प्रशासन से गोहत्या की इजाजत मांगी थी। जब प्रशासन की ओर से उन्हें इसकी अनुमति नहीं मिली तो उन्होंने एक याचिका डालकर प्रशासन से मांग की कि हिंदू समुदाय को भी दुर्गा पूजा का आयोजन करने की अनुमति नहीं दी जाए। दोनों समुदायों के बीच तनाव भड़कने से रोकने के लिए प्रशासन ने एक ओर जहां मुस्लिम समुदाय को गोकशी की अनुमति नहीं दी, वहीं हिंदू समुदाय को भी दुर्गा पूजा का आयोजन करने का अधिकार नहीं दिया।

प्रशासन ने हालांकि इस बारे में आधिकारिक तौर पर कोई बयान नहीं दिया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि गांव में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पनपने से रोकने के लिए ही उन्होंने यह फैसला लिया है। हालांकि गांव के लोगों ने माना है कि उनके गांव में दोनों समुदायों के बीच किसी तरह का कोई तनाव नहीं है। लोगों का आरोप है कि दोनों समुदायों के बीच तनाव भड़कने की संभावना जताते हुए जहां प्रशासन हिंदुओं को दुर्गा पूजा का आयोजन करने की अनुमति नहीं देता, वहीं ग्रामीणों द्वारा अनुमति के लिए भेजे गए आवेदनों का जवाब देते हुुए प्रशासन आधिकारिक तौर पर सांप्रदायिक तनाव के संभावित खतरे का कोई जिक्र नहीं करता है।

इसी गांव में रहने वाले चंदन साहू ने न्यूज एक्स को बताया, 'दिक्कत आ रही है। परमिशन नहीं मिल रहा है। थाना-पुलिस में आवेदन होगा तो हम लोगों को यहां अनुमति देने से खूब अच्छा होता। हमारे यहां के मुस्लिम समाज ने भी आवेदन दिया है कि अगर यहां दुर्गा पूजा होगा तो हम लोगों को भी गोहत्या की इजाजत चाहिए। यहां गांव में लोगों का दुर्गा पूजा में उपवास रहता है। ऐसे में किसी का उपवास है तो उसे अष्टमी के दिन 6 किलोमीटर जाकर अपना उपवास तोड़ना पड़ता है। एक बार जब पूजा हुआ था तो उन्होंने (प्रशासन) ने कहा था कि अगर यहां पूजा होगा तो समुदाय के जितने लोग होंगे उन्हें हम उठाकर ले जाएंगे।'

एक अन्य ग्रामीण परेश पांडे ने बताया, '2012 में जब हमने मूर्ति बनाया तो जैसे पुलिस है, प्रशासन है वहां हम लोग भी आवेदन किए। लाइसेंस पाने के लिए आवेदन किए, लेकिन वे लोग नहीं सुने। हर साल हम दरख्वास्त देते हैं, लेकिन बार-बार आता है वही बात।'

राजनैतिक पार्टियां इस मसले को लेकर एक-दूसरे पर राजनीति करने का आरोप लगा रही हैं। विश्व हिंदू परिषद के प्रमुख प्रवीण तोगड़िया ने कहा है कि यह एक गंभीर मुद्दा है और इसपर जल्दी ही कुछ किए जाने की जरूरत है।

Quote:
While the liberals and some top journalists beating their chests day in and day out over various issues such as Beef, Dadri and Dalits and seek to put PM Narendra Modi in the dock, they have maintained a stoic silence over the Durga Puja ban in a West Bengal village.

Around 300 Hindu families have been banned from praying or organising Durga Puja at Nalhati village in Birbhum district of West Bengal for the last three years ever since Mamata Banerjee came to power. The illegal Bangladeshi immigrant Muslims rule the roost in the region. The Muslims in the village claim that they feel offended by Durga Puja.

The matter was first reported by a Bengali newspaper. Later, NewsX TV took up the matter. A village told on camera that police had warned them to comply with the ban or face serious consequences. The Hindu villagers even wrote to the District Magistrate, seeking permission to hold Durga Puja, but in vain.

LINK
__________________
Only peace remains at last!

Last edited by PeaceSeeker; October 28th, 2015 at 05:08 AM. Reason: adjust hindi font size
Reply With Quote