Thread: Shayari
View Single Post
  #7  
Old August 27th, 2013, 10:38 AM
sarv_shaktimaan's Avatar
sarv_shaktimaan sarv_shaktimaan is offline
Moderator
 
Join Date: Aug 2005
Location: satva aasmaan
Posts: 15,548
sarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond reputesarv_shaktimaan has a reputation beyond repute
Re: शायरी

One of my most favorite ghazals written by Hasrat Jaipuri, sung by Ahmed and Mohammed Hussain.

Quote:
चल मेरे साथ ही चल ए मेरी जान-ए-ग़ज़ल,
इन समाजों के बनाए हुए बंधन से निकल चल,
चल मेरे साथ ही चल|

हम वहाँ जाएँ जहाँ प्यार पे पहरे ना लगें,
दिल की दौलत पे जहाँ कोई लुटेरे ना लगें,
कब है बदला ये ज़माना तू ज़माने को बदल चल|

प्यार सच्चा हो तो राहें भी निकल आती हैं,
बिजलियाँ अर्श से खुद रास्ता दिखलातीं हैं,
तू भी बिजली की तरह ग़म के अंधेरों से निकल चल|

अपने मिलने पे जहाँ कोई भी उंगली ना उठे,
अपनी चाहत पे जहाँ कोई भी दुश्मन ना हँसे,
छेड़ दे प्यार से तू कोई मोहब्बत पे ग़ज़ल चल|

पीछे मत देख ना शामिल हो गुनहगारों में,
सामने देख के मंज़िल है तेरी तारो में,
बात बनती है अगर दिल में इरादे हों अटल चल|

- हसरत जयपुरी
Reply With Quote