View Single Post
  #5  
Old June 4th, 2013, 03:58 PM
khaski_khopari's Avatar
khaski_khopari khaski_khopari is offline
Senior eCharchan
 
Join Date: Aug 2006
Posts: 1,238
khaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond reputekhaski_khopari has a reputation beyond repute
Re: शक्ति और क्षमा

Our Hindi Sir often mentioned these lines as 'important' for exams :

क्षमा शोभती उस भुजंग को
जिसके पास गरल हो
उसको क्या जो दंतहीन
विषरहित, विनीत, सरल हो ।
-----------

Pls edit the poem properly to make it readable.


क्षमा, दया, तप, त्याग, मनोबल
सबका लिया सहारा
पर नर व्याघ्र सुयोधन तुमसे
कहो, कहाँ कब हारा ?

क्षमाशील हो रिपु-समक्ष
तुम हुये विनत जितना ही
दुष्ट कौरवों ने तुमको
कायर समझा उतना ही।

अत्याचार सहन करने का
कुफल यही होता है
पौरुष का आतंक मनुज
कोमल होकर खोता है।

क्षमा शोभती उस भुजंग को
जिसके पास गरल हो
उसको क्या जो दंतहीन
विषरहित, विनीत, सरल हो ।

तीन दिवस तक पंथ मांगते
रघुपति सिन्धु किनारे,
बैठे पढ़ते रहे छन्द
अनुनय के प्यारे-प्यारे ।

उत्तर में जब एक नाद भी
उठा नहीं सागर से
उठी अधीर धधक पौरुष की
आग राम के शर से ।

सिन्धु देह धर त्राहि-त्राहि
करता आ गिरा शरण में
चरण पूज दासता ग्रहण की
बँधा मूढ़ बन्धन में।

सच पूछो , तो शर में ही
बसती है दीप्ति विनय की
सन्धि-वचन संपूज्य उसी का
जिसमें शक्ति विजय की ।

सहनशीलता, क्षमा, दया को
तभी पूजता जग है
बल का दर्प चमकता उसके
पीछे जब जगमग है।
__________________

Reply With Quote