eCharcha.Com   Support eCharcha.Com. Click on sponsor ad to shop online!

Advertise Here

Go Back   eCharcha.Com > eCharcha Lounge > Hindi

Notices

Hindi You can post in Hindi here...

View Poll Results: who may be the killer of aarushi
talwar 3 100.00%
nupur 0 0%
krishna 0 0%
hemraj 0 0%
Voters: 3. You may not vote on this poll

Reply
 
Thread Tools Display Modes
  #31  
Old April 11th, 2011, 04:36 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

[quote=Premi;552518]jab pagli pe hi 615

naari to mahan hai jagadjanni hai , yahi to najron najron ka fark hota hai n -naari me to 1127 se bhi upar hain sir ji ...
good mornign n byeeeeeee
jb tk aap hamare post pr dikhoge ham soyeng kaise?? ab jaiye rest lijiye ye bogus replies hata dijiyeag pls
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #32  
Old April 11th, 2011, 04:41 PM
Premi's Avatar
Premi Premi is offline
Senior eCharchan
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 11,761
Premi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

[quote=shuklabhramar5;552520]
Quote:
Originally Posted by Premi View Post
jab pagli pe hi 615

naari to mahan hai jagadjanni hai , yahi to najron najron ka fark hota hai n -naari me to 1127 se bhi upar hain sir ji ...
good mornign n byeeeeeee
jb tk aap hamare post pr dikhoge ham soyeng kaise?? ab jaiye rest lijiye ye bogus replies hata dijiyeag pls
naari ke maine bola ki 1000 se upar milenge ...dekha na ...
aapke reply gusty aur hamaare reply bogus wah wah shukla ji wah

shuruaat kisne ki ...
__________________
Reply With Quote
  #33  
Old April 15th, 2011, 01:36 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

premi ji hami aap ki reply ko keval nahi kaha tha bogus hm sb ki ye jo ek tarah ki chatting ho gayi thi sb nikalne ko kaha tha -log dekhenge to kya kahenge aap ko??
ek baat aur bataiyega ki photo bina url ke computer se nahi dal sakte attachment kar -kya ???

Bhramar5

[quote=Premi;552522]
Quote:
Originally Posted by shuklabhramar5 View Post

naari ke maine bola ki 1000 se upar milenge ...dekha na ...
aapke reply gusty aur hamaare reply bogus wah wah shukla ji wah

shuruaat kisne ki ...
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #34  
Old April 15th, 2011, 02:04 PM
Premi's Avatar
Premi Premi is offline
Senior eCharchan
 
Join Date: Feb 2009
Posts: 11,761
Premi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond reputePremi has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

Quote:
Originally Posted by shuklabhramar5 View Post
premi ji hami aap ki reply ko keval nahi kaha tha bogus hm sb ki ye jo ek tarah ki chatting ho gayi thi sb nikalne ko kaha tha -log dekhenge to kya kahenge aap ko??
ek baat aur bataiyega ki photo bina url ke computer se nahi dal sakte attachment kar -kya ???

Bhramar5
daal sakte hain par server space kaahe waste karen but if you have some specific pictures then let the mods know and load it up.
__________________
Reply With Quote
  #35  
Old April 16th, 2011, 12:19 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poemअरे लुटेरे भाई तेरी - क्या दूकान चली हí

अरे लुटेरे भाई तेरी -
क्या दूकान चली है
कल तक तो तू जुआ खेलता
‘गलियों’ में था दर्शन देता
अब 'पद्मावती' में घूमे - जाये
‘दिल्ली’ पहुंचे तो उड़ जाये
सागर के उस पार !!

कोई ‘महिला’ -कहीं अकेली
या ‘कायर’ हो पुरुष कहीं
पल भर तू फिर नहीं चूकता
हाथ सफाई-लगे कसाई !!

कामाख्या का जादू सीखा

एक “खिलाडी” को –ना- छोड़ा

टूट –फूट- कर ‘सपने’ बिखरे

फिर भी कहती मै ना हारी
ये है नारी !! अरे लुटेरे
ले ली उसकी “टांग”
तुझको ना नरसिंह मिलें
कभी बिठाते “जांघ” !!



अगर लूटना है तो लूटो
लूट रहे जो घूमे
उसी ट्रेन में टी. टी. से मिल
जेब भरे - है - घूमे
एक ‘तमाचा’ जड़ दो उसको
‘ताकत’ अपनी दिखा वहां तू
‘पहलवान’ बन जाओ !!

अगर काटना ‘पाँव’ ही तुझको
सोये -देखो ड्यूटी- हैं वो
लूट रहे -सरकार- खजाना
उनको जा के लूटो !!

कल तेरी माँ -बहना भी
सफ़र कहीं - जो कहीं अकेली
तेरे भाई मिल जायेंगे -देर नहीं
काट-काट कर- डालें -बोटी !!

इसी ट्रेन में अपनी -सेना
लव-‘लश्कर’ के साथ चले है
माना तेरी ‘सीमा’ तय है
‘दुश्मन’ से तू देश के भाई
‘जान’ लड़ाए रोज लड़े हैं
‘आँख खोल’ कर प्यारे देखो
‘दुश्मन’ तेरे साथ चले हैं
कभी कहीं कुछ ‘मोड़’ जो आये
चलती ‘ट्रेन’ कहीं रुक जाये
थोडा सा तुम ‘जागो’ भाई
‘चीर- हरण’ या कोई ‘लुटेरा’
‘आह’ भरी कानो जब आये
‘कृष्ण’ हमारे कुछ कर जाओ !!!



कार खड़ी कर सड़कों पर हम
कितना जाम लगायें -
ले परिवार शाम को आयें
वो फुल्के की और बताशा
चाट -चाटने -मटरू वाली
क्या दूकान लगी है
उस बर्तन में "मूते" -जाये
क्या संदेशा दुनिया छाये !!
इन जैसों से भी डरना क्या-
लोकपाल बिल लाना ??

चार साल की बच्ची - माँ- को
‘दफ़न’ किये हैं घर उसके
‘ताला’ उसके घर में लाये
कुछ हजार जो ना ले पाए
है पंजाब की घटना सच्ची
है -ये –चेहरा- एक "पुलिस" का
लाज-शर्म सब खाए
चुल्लू भर पानी ना डूबें
ये रक्षक कहलायें !!

कहें भ्रमर "कैप्टन" की मानों
पकड़ इन्हें तुम उल्टा टांगो
‘मूर्ति’ - इनकी ना ‘पत्थर’ की
हर ‘चौराहे’ एक- एक -कर
‘जिन्दा’ ही तुम कभी लगा दो

जिसके ‘दिल’ में ‘जान’ अभी -
धड़कन कुछ जिन्दा है भाई
रोको तुम है ‘लुटी कमाई’
जागो तुम -
अभी वक्त है -
दर्द बढ़ रहा - दिन प्रतिदिन है
‘ठेस’ लगी है -
‘खून’ बह रहा -
‘घाव’ कही ‘नासूर’ बने ना
‘जगा’ रही है ‘रोती’ माई !!

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
१५.०४.2011
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #36  
Old April 20th, 2011, 09:07 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- खारे सागर में डूबे हम - गोता लायें मोती ढू&

आओ आज चलें उस दुनिया
खारे सागर में डूबे हम
गोता लायें मोती ढूंढें
ताज में अपने -सिंहासन में
अपने जड़ के
इस उफान में
हहर- हहर कर उठी तरंगे
चली बदलने दुनिया को जो
स्वागत उनका
आओ हाथ मिला कर -कर लें
बड़ी पुनीत है आत्मा उसकी
आओ करें समर्पण हम अब
गोदी उसकी इस अथाह में
भुला के सब कुछ
चैन से फिर सो जाएँ
तभी कल्पना मूर्त हमारी
शांति -लहर -ये रहे झुलाती
थपकी देकर
ऊपर नीचे
तन्हाई की गहराई में
जहाँ स्याह अँधियारा पलता
चाँद दिखाती
उजियारा कुछ
धवल चांदनी
दिल में अपने भर लायें
सपनों के इक राज महल में
कोई दीप जला जाये
उजियारा कर कोई प्रेयसी
जूही चंपा बेला जैसी
खुश्बू देती
अन्तरंग महका जाये
जल तरंग की-परियां जल की
व्यथा वेदना हर जाएँ
आओ खुद को करें सुवासित
अंतर अपना पुष्प सरीखा
धवल -चांदनी वेद ज्ञान से
आज आत्मा को हम अपनी
अमृत तुल्य बना डालें
हो गंगा सी -जिसमे आकर
खारा सागर -तर जाये

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
८.४.२०११ जल पी बी
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #37  
Old April 26th, 2011, 12:30 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
उस ‘कुर्सी’ क्या आग लगी है ????

नेता- डी. एम .- मंत्री- सारे
‘अपने घर के’- ‘अपने बच्चे’ !!
इन्हें सिखाकर हमने भेजा
गाँव -बड़ों का सब संदेसा !!
‘सड़क’ हमारी जैसे नाली
नदी ‘नाव’ न -
कितने प्यारे डूब मरे
वो किसान ले ‘कर्ज’ मरा था
चला ‘मुकदमा’ दो पुस्तों से
‘बूढ़े’ को कुछ कुत्ते नोचे
“छुटकी” को कुछ मिल के ‘बेंचे’
उसके ‘मरद’ ने उसको छोड़ा
कुछ ने ‘होली’ फूंकी
कटे -पेड़ सा ‘बाप’ पड़ा है
रोज ‘कचहरी’ चला -खड़ा है
उस घर में ‘इन्सान’ न रहते
जिनका ‘पाँव-पूज’ हम चलते
‘लात’ मार वो हमें विदा कर
मूंछों अपनी ‘ताव’ जो धरते
सब माना था उसने जाकर
‘बड़ा’ बनूँ -कुछ -कुर्सी पाकर
‘ताकतवर’ जब शासन पाऊँ
दूर ‘समस्या’ सब कर पाऊँ
उस ‘कुर्सी’ क्या आग लगी है ????
सभी ‘आत्मा’ –‘संस्कृति’ अपनी
सभी ‘समस्या’ है –‘जल’ मरती ??
‘अपने घर’ के ‘अपने बच्चे’
जब भी ‘घर’ में आयें
आओ उन्हें ‘जगा दें’ भाई
पुनः पुनः उनकी ‘आत्मा’ को
“अमृत” से नहलाएं
‘होश’ दिलाएं
इस ‘दुनिया’ की
इस ‘माटी’ की -
‘परिपाटी’ की
उनमे डालें “जान “
अगर यही ‘जागृत’ कर पायें
“भारत बने महान” !!!
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
२६.४.2011
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; April 26th, 2011 at 12:34 PM.
Reply With Quote
  #38  
Old April 28th, 2011, 11:36 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

रूहें यहाँ जली काया जो
हो अधमरी आह भरती है

हे ‘मन-मोहन’ -मन को मोहो
‘माया’ अपनी छोडो !!
अरे सोणिये से जा कह दे
बहू हमारी गृह लक्ष्मी है ??
तुलसी-राम के आँगन आई !
इस धरती की आज वेदना -दर्द हमारा
चिट्ठी पाती -रचना लेख
वहीँ से पढ़ ले !!

‘जन’-‘जागरण’ से जुडी रहे वो
एक ‘चिट्ठी’ तो नाम हमारे
अपने ‘मन’ की महिमा सारी
‘मन’ आये जो कभी तो ‘लिख’ दे

"शांति" रहे भूषण -आभूषण
कितने -रोज हमें मिल जाएँ
अन्ना -अन्न- हमारा भाई
बिन उसके हम ना जी पायें

तुम ‘अबोध’ –‘बालक’ से हो के
प्रेम बीज सच इस धरती पर
‘दिवस’- ‘निशा’ संग आ के बो दो

‘अलका’ सी तुम अलख जगाओ
प्रात काल की स्वर्णिम बेला
‘कमल’ के जैसे खिल के अपने
भारत को तुम हंसी दिलाओ

जो गरीब -बच्चे-भूखे हैं
पेट भरे -तुम उन्हें पढ़ा दो
हो ‘विनीत’ आदर्श प्यार से
लाल-बहादुर-‘बाजपेयी’ बन
अच्छाई का ‘यश’ तुम गा दो

राम राज्य का सपना ही न
राम-राज्य ला के दिखला दो
‘नीलम’ मोती मणि को गुंथ के
हार बनाओ हाथ मिलाओ
गले मिलाओ-‘सचिन’ के जैसे
छक्के -जड़ के विश्व पटल पर
भारत का झंडा फहरा दो !!

‘रचना’ – ‘प्रिया’ से प्रेम बढ़ा के
नारी को सम्मान दिलाओ
दीप-‘संदीप’ करो उजियारा
‘ब्रज-किशोर’ चाहे हरीश या आशुतोष बन
मंगल धरती मदन अमर कर !!

सेवा भाव सदा ही रखना
माँ का नित ही नमन करो
कोमल-कपिल-दिव्य-मृतुन्जय
विश्वनाथ बन -कंचन -बरसा दो

तू मनीष चाहे सलीम बन
आलोकित- पुलकित -मन कर दे
संगीता- रजनी या मोनिका
गृह लक्ष्मी -शारद बन जाओ

‘अख्तर’- ‘खान’ -अकेले बढ़ के
हीरा ढूंढो और तराशो
‘डंडा’ चाहे ‘चक्र’ चला दो

मथुरा में ‘दिव्या’ क्यों रोती
‘श्याम’ उसे तुम न्याय दिला दो
‘तन्मय’ हो के –‘राज’ छोड़ दे
गाँधी का तुम भजन सुनाओ !!
‘सुशील’, ‘चैतन्य’ ,’रवि’ या ‘दिनेश’ हो
धरती को जीवन दे जाओ
हे ‘देवेन्द्र’- ‘कृशन’- ‘गगन’ पर
‘सत्यम’ शिवम् सुंदरम लिख के
मोती अमृत कुछ बरसाओ !!!

आशा- लता -है कुम्हलाई जो
सींच उसे - कुछ ‘शौर्य’ सुना दे
गीत - भजन -कुछ ऐसा गा दें
युवा वर्ग में जोश जगा दे !!


‘रूहें’ यहाँ जली ‘काया’ जो
हो ‘अधमरी’ ‘आह’ भरती हैं
‘प्रेम’- ‘सुधा’ रस शायद पी के
जी जाएँ कुछ ‘क्रांति’ करें !!

‘सोच’ नयी हो- ‘भाई-चारा’
धर्म -जाति-बंधन या भय से
‘मुक्त’ हुए सब गले मिले
कहें 'भ्रमर' तब ‘दर्द’ दूर हो
बिन भय ‘दर्पण’ जब सब कह दे !!

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
२४.४.२०११ जल पी बी
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; April 28th, 2011 at 11:37 AM. Reason: रूहें यहाँ जली काया जो हो अधमरी आह &#
Reply With Quote
  #39  
Old July 18th, 2011, 05:22 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “ Koyla”- Bhramar –Hindi poem

उनको हमने दिया “सुदर्शन”
“भ्रमर ” कहें रखवाली लाये !
कौन जानता -सभी शिखंडी
नाच-गान ही मन को भाए !!
——————————–
मन छोटा कर घर से अब तो
“जान हथेली” ले निकले !
“दो रोटी” के खातिर अब तो
“तिलक लगा” घर वाले भेजें
————————–
छद्म युद्ध है- नहीं सामने
योद्द्धा ना – कोई शर्तें !
“कायर” ही अब भरे हुए हैं
पीठ में ही छूरा घोंपें !!
——————–
ह्रदय काँपता अब संध्या में
दिया जले या बुझ जाए !
“रोज-रोज आंधी” आती है
जो उजाड़ सब कुछ जाए !!
———————————
“ढुलमुल नीति ” से भंवर फंसे हैं
दो कश्ती पर पाँव रखे !
एक किनारे पर जाने को
साहस -नहीं -ना-दम भरते !!
———————————-
चिथड़े पड़े “खून” बिखरा है
“ह्रदय विदीर्ण” हुआ देखे !
आँखें नम हैं धरती भीगी
“जिन्दा लाश” बने बैठे !!
————————–
अर्धनग्न -महफ़िल में मंत्री
शर्म -हया सब बेंच खोंच के !
हो मदान्ध- हैं बौराए ये
इस पीड़ा- क्षण -जा बैठे !!
————————–
हंसी -ठिठोली -सुरा- सुन्दरी
जुआ -दांव में बल आजमायें
ये क्या जानें – पीर परायी
निज ना मरा -दर्द क्या होए !!
———————————–
ना जाने क्यों पाले कुत्ते
बोटी नोचे – देख रहे
ये राक्षस हैं – पापी ये
“धर्मराज” बन कर बैठे !!
——————————-
जो तुम “तौल नहीं सकते सम”
गद्दी से – मूरख – उठ- जाओ !
“हाथ” में अब भी कुछ ताकत तो
“उसको” तुम फ़ौरन लटकाओ !!
———————————–
भ्रमर ५
Bhramar ka Dard aur Darpan
१५.७.२०११ जल पी बी १० मध्याह्न

http://surenrashuklabhramar.blogspot.com

----------------------------------------------------
काहे खून तेरा प्यारे अब
खौलता नहीं ---??
तोड़ लिया कोई फूल तुम्हारा
खाली हो गयी क्यारी
उजड़ जा रहा चमन ये सारा
गुल गुलशन ये जान से प्यारी
खुश्बू तेरे मन जो बसती
मिटी जा रही सारी
पत्थर क्यों बन जाता मानव
देख देख के दृश्य ये सारे
खींच रहा जब -कोई साड़ी
काहे खून तेरा प्यारे अब
खौलता नहीं ---??
--------------------------
साँप हमारे घर में घुसते
अंधियारे क्यों भटक रहा
जिस बिल से ये चले आ रहे
दूध अभी भी चढ़ा रहा ?
तू माहिर है बच भी सकता
भोला तो अब भी भोला है
दोस्त बनाये घूम रहा
उनसे अब भी प्यार जो इतना
बिल के बाहर आग लगा
बिल में ही रह जाएँ !
काट न खाएं !
इन भोलों को !!
लाठी क्यों ना उठा रहा ??
काहे खून तेरा प्यारे अब
खौलता नहीं ---??
------------------------
तोड़-तोड़ के पत्थर दिन भर
बहा पसीना लाता
धुएं में आँखें नीर बहाए
आधा पका - बनाता
बच्चों को ही पहले देने
पत्तल जभी सजाता
मंडराते कुछ गिद्ध -बाज है
छीन झपट ले जाते
कल के सपने देख देख के
चुप क्यों तू रह जाता
काहे खून तेरा प्यारे अब
खौलता नहीं ---??
---------------------------

शुक्ल भ्रमर ५
२०.०७.२०११ जल पी बी[/size]
http://surenrashuklabhramar.blogspot.com
८.५५ पूर्वाह्न
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; July 27th, 2011 at 10:05 AM.
Reply With Quote
Reply

Bookmarks

Tags
bhramar, hindi kavita, kavi, kavita, poetry


Currently Active Users Viewing This Thread: 1 (0 members and 1 guests)
 
Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump

Similar Threads
Thread Thread Starter Forum Replies Last Post
“Naari”- Bhramar-Hindi kavita (Hindi poem). shuklabhramar5 Poetry 74 June 15th, 2015 07:22 AM
Patang – hindi poem-bhramar. shuklabhramar5 Hindi 107 April 12th, 2014 07:49 AM
A Poem ...... With a Title :D Premi Poetry 4 August 19th, 2010 10:07 PM


All times are GMT -7. The time now is 05:34 AM.


Powered by vBulletin® Version 3.7.2
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
Site Copyright © eCharcha.Com 2000-2012.