eCharcha.Com   Support eCharcha.Com. Click on sponsor ad to shop online!

Advertise Here

Go Back   eCharcha.Com > eCharcha Lounge > Hindi

Notices

Hindi You can post in Hindi here...

Reply
 
Thread Tools Display Modes
  #46  
Old February 20th, 2011, 08:58 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “घाव ” बना नासूर -A COLLECTION OF HINDI POEM BY BHRAMAR

Quote:
Originally Posted by Sane Less View Post
Shukarambaan pai, a question is puzzling me... why have you dedicated all these poems of yours to Kavita Who is she
sane less ji gd evening ..
wid gd question-
Kavita pyari hai ..hamari aatma hai ..jaan hai..hamare samaj ki aankh hai..ek sachchayi bayan karne vala darpan hai...kadva sach hai ..mithas me sameti Madhu hai ..Phoolon ki khusbu hai ..ek satya hai ..sundar aur shiv hai ...bahut ku6 hai..
Kavita khati samay hamara...log kahen ..kuchh..sach maane ham..
jab likhenge to batayenge kya kya hai ...

Ek shikva hai aap se aap ne hamara naam kyon badal diya
shukla bhramar 5 se SHUKA RAMBAAN ...H HAAAAAA

chalo log kuchh bhi den to sahi ...kaante ..phoool ..pyar to baaten..
Chitrala ji aur tantrik yogi ji kavita k baare me aur kuchh gyan denge ..jb unki tantra sadhna khatm hogi .....h haaaaaaa
Bhramar ...
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #47  
Old February 20th, 2011, 10:49 AM
Sane Less's Avatar
Sane Less Sane Less is offline
Dead On Arrival is back
 
Join Date: Jun 2005
Posts: 16,811
Sane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond reputeSane Less has a reputation beyond repute
Re: “घाव ” बना नासूर -A COLLECTION OF HINDI POEM BY BHRAMAR

Quote:
Originally Posted by shuklabhramar5 View Post
...
Kavita pyari hai ..hamari aatma hai ..jaan hai..hamare samaj ki aankh hai..ek sachchayi bayan karne vala darpan hai...kadva sach hai ..mithas me sameti Madhu hai ..Phoolon ki khusbu hai ..ek satya hai ..sundar aur shiv hai ...bahut ku6 hai..
Kavita khati samay hamara...log kahen ..kuchh..sach maane ham..
jab likhenge to batayenge kya kya hai ...
To aisa bolo na ki Kavita tumhara biwi ka naam hai. Why so many big big words when only one would have done

Quote:
Originally Posted by shuklabhramar5 View Post
Ek shikva hai aap se aap ne hamara naam kyon badal diya
shukla bhramar 5 se SHUKA RAMBAAN ...H HAAAAAA

...
Arey yaar Shukarumpiya pai, naam mein kya raka hai. Jaisa hamara famous poet Kalidasa ne kaha hai, what's in a name... a rose is a rose is a rose
__________________
-----------------------------------------------

"Kisi ne sahi kaha zindagi kutti cheez hai. You live life without a care in the world not realizing that life is building a heavy load of trash that it dumps on you one fine day, breaking your back." - saneless
Reply With Quote
  #48  
Old February 21st, 2011, 09:19 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
“पगली ” –भ्रमर –हिंदी पोएम (कविता) .a collection of hindi poems by bhramar

"भौंरा हूँ मुक्त फिरूं " -भ्रमर-कविता (हिंदी पोएम)

भौंरा हूँ मुक्त फिरूं
इधर - उधर डोलूँ
उड़ता फिरूं मै
जग को टटोलूं
कांटे को छोड़ बढूँ
कली - कली
फूल - फूल.

गाँव को देखा
प्यारा ‘झरोखा’ है
घर - संसार का
अपनों के प्यार का
पलते दुलार का
अम्मा से चाची का
दादी से नानी का
ननदी से भाउज का
बाबा और ताऊ का
कितना प्रसार है-
"नातों " का
दूर - दूर.

नदिया - तालाब का
खेत-वन - बाग़का
"पाथर" - मज़ार का
पीपल और बेल
के –‘जादुई’-पात का
कैसा जुडाव है
होली - दिवाली का
सखी - सहेली का
दुल्हन - नवेली का
"लक्ष्मी" सा प्यार है
दिल में भरा
कूट - कूट.

‘अलबेली’ -बेल का
छुपा - छुपी खेल का
गाँव के मेले का
' सावन ' के झूले का
कजरी से सोहर का
बेगम से ' सौहर' का
पायल से बिंदिया का
मेहनत से निंदियाका
सुख भरा नाता है-
"अम्मा" और पूत का
प्यार भरा
कूट -कूट .

गोरी के जाम भरे
नैनो के प्याले में
सुर्ख सुर्ख गालों में
जुल्फों की बदली में
भौंरातो कैद हुआ
रात - रानी
कली - खिली
फूल -फूल.
सुरेंद्रशुक्लाभ्रमर
२१.२.१०जलपी .बी.
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; February 21st, 2011 at 09:25 AM.
Reply With Quote
  #49  
Old February 23rd, 2011, 12:56 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “घाव ” बना नासूर"Bhrastachar" -shuklabhramar-Kavita-Hindi poem

"भ्रष्टाचार" एक अजगर है
लीलने को बड़ा मुह, भोली आँखें
बड़ा-समुद्रसा पेट
अपने चरितार्थको बल देते-
की अजगर करे न चाकरी -
फिर मोटा होए..
दिन भर जो जंगल फिरे -
हाथ -पैर मारते -
गरीब-मेहनतकश
पसीना बहते -दो रोटियों के लिए .
लकड़ियों का गट्ठर जुटाते
उनको मुह फाड़ -चाट कर जाता
हमने हे पाल रखा है इसे
सदियों से चारा डालते गए
जनसँख्या अब बढ़ रही -
बाजार गर्म -बड़े-बड़े मार्केट
स्टाल -बिक़े जा रहे
-प्रदर्शनियां -मंत्री से विज्ञानी-ज्ञानी
सब स्वागत समारोह में भाग लेते
"पौधा" लगते सींच जाते
इस अनमोल बूटे का
आँगन में -
'रौंदते' हुए तुलसी को -बेला को
रामचरितमानस -राम के आदर्श को
नियम -कानून को
धज्जियाँ उड़ाते लोग
अजगर का पेट भरते हैं
सरे आम भीड़ में -महफ़िल में
और उधर "वो" देते हैं मुझे-
निमंत्रण
मुझ सा बन जाओ

मेरी कोठी में आओ
मत पछताओ
"कंकाल" मत बनो
बेटी कुवांरी बैठी - बेटा धूल में पढता
कच्ची दीवाल गिर रही
दवा के पैसे नहीं अम्मा-बाबू के
भाई बेरोजगार- लाचार-
जुए "ड्रग्स" का शिकार
भ्रष्टाचार नहीं -ईमानदारी- महंगाई -
तेरी दुश्मन है
ये बड़ा अजगर है
जो खाए जा रही तुझको- सबको
और उनके "निमंत्रण -पत्र" को
पढता -रोता-फाड़ -फेंकता
उनके चेहरे पर -लौट पड़ा
पैदल ही - एक पीड़ा लिए
गुमसुम
अपने प्यारे से गाँव में
बूढी माँ की गोदी में सर रख
पसर गया -सोचते
काश हमारी नींद खुलती
गाँधी और कल्कि हम खुद बन जाते
ले लेते " मशाल"
अजगर विलुप्त हो जाता
और फिर " गरीब" की जान बच जाती.

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२.३० पूर्वाह्न
२३.२.११जलपीबी
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #50  
Old February 23rd, 2011, 07:34 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
“घाव ” बना नासूर -Karj-vyaj -A COLLECTION OF HINDI POEM BY BHRAMAR

"कर्ज -व्याज" तो हनुमान की पूंछ है
'उसकी' कचर - कचर बातों से तंग
मै तिलमिला उठता
सुबह -सुबह दिनचर्या
सुना देते – ‘फरमान’
आज चलना है ‘यहाँ’ -
‘वहां’- ‘ये’ करना’-‘वो’ करना
चूर कर देते -मेरे सपने
मेरे अरमान !
हांक देते फिर
दिन भर थका देते
चक्कर लगाता- मै दिन भर
सोचतारहता
कबहोगा -'वो' कर्ज पूरा
मेरे बाप-दादोंका
ये इसका “व्याज” -
हनुमान की पूँछहोगयीहै
आदरकरताउसका
मै “भीष्म –प्रतिज्ञा”लिए
“कर्ण” साडटाथा
मुक्त होने को -
धोने को दाग .
अथक परिश्रम -
चरमरायी हड्डी -
घर आतातो -बंध जाता-
“माया –मिठास” में
लोग पानी पिला देते
चारा डाल- ठोंक देते हंथेली से पीठ

शुरू हो जाते फिर -
मुझे गोल-गोल हांक देते-
"गाँव" मेरा ब्रह्माण्ड था
मेरा- मेरे बाप दादा की -
अनमोल दुनिया !
रश्म-रिवाज -प्रथा-सम्मान-
से मै सजाथा अन्दर तक
'अथाह' ताकत है मुझमे
कभी -कभी भांप लेता-
आँखेंबंदकर -
पिजड़े में बंद-शेर सा
गुर्रा उठता -बेबस -
मजबूर-लाचार !
मन तो कहता -पिजड़े को तोड़
"इतिहास" रच दूं -
मुक्त हो जाऊं -" मालिक" से
"बंधन" -"बंधुआ" हालात से
उछाल दूं -पटखनी दूं इनको
चारों खाने चित्तये
मुझसे सोचें - चक्कर काटे -
उनका दिमाग -"ये"-
पर फिर वही
प्रथा-परंपरा
मेरे -प्यारेबाप -दादा की-
यादआती -मेरीसंस्कृति
"मेरा नाममतडुबाना "
मै चक्कर काटता -
"कोल्हू " में
खाने को पाजाता
चबाता-पगुराता
शांत-चलता
चक्कर काटते
ख्यालोंमेंही
थोड़ासासोजाता .

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२४.०२.२०११
जल (पी.बी.)
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #51  
Old February 25th, 2011, 03:35 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Patang -" अमृत फल"– hindi poem-bhramar-Kavita .

" अमृत फल"
shukla-bhramar-Kavita –Hindi poems .

बसंती हवाओं ने
‘ पतझड़ ’ भगाया
मरे पड़े - पेड़ों में
' जीवन ' जगाया
नयी कोपलें डाली - डाली
झूम उठी सब में हरियाली
पोर - पोर रंग भरे
छोटा सा फूल खिला -
मन को रिझाते - भौंरे -
"फल" - मै गोदी में-
मुझको खिलाता -
मौसम की मार से -
मुझको बचाता "वो"
पत्तों के आँचल से .

तपता - भीगता - कोप सहता-
आंधी का - विजली का -
वर्षा का - पानी का -
' पत्थर ' का - झेलता
बड़ा हुआ.
झांकता आँचल से बाहर
अनजानी दुनिया से -
भय खाता -
दुबक - सहम जाता
बड़ा हुआ -झूमते -
मोहक 'संगीत' में
पत्तों के ' गीत ' में
कोयल के ' कूक ' में
देख - देख नाचता
साथी को -मोर को
बुलबुल व् चाँद को
तभी एक ' पत्थर ' ने
आहत किया मन - सहमा सा-
काँपता - अंधड़ व विजली -
को - चल पड़ा-
नापता - "रजनी" को

जैसे जैसे - दिन चढ़े
नए - नित - रूप गढ़े
गदराया - ललचाया
रस भरा - "बैरागी" - "पीला"
हुआ "फल" तृप्त करने
"दुनिया" में प्यासा -
किसी का 'मन' .
टपक पड़ा ' आँचल ' से
दूर गयी - माता के
नैनो से दो बूँद -
झर पड़े "गात" पे
और ' वो' निछावर
"अमृतफल"
भर मिठास - "डूब गया"
भूल गया - खो गया -
अपना 'अस्तित्व '
इस "जहाँ" एक प्यारे से
' काम ' में -
छोटे से ' गाँव ' में .

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२५.२.११ जल (पी.बी.)
A collection of hindi poems by bhramar- pagli, patang, naari, koyla.....
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; February 25th, 2011 at 03:42 AM. Reason: TO USE ALL MY HINDI POEMS IN ONE THREAD WITH DIFFERENT TITLES
Reply With Quote
  #52  
Old February 26th, 2011, 10:24 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Patang-meri kavita khatti -meethi -shabri ka hai ber – hindi poem-shuklabhramar.

मेरी कविता खट्टी-मीठी शबरी का है बेर..

मेरी कविता -प्यारा सा इक तेरा चेहरा
भोली आँखें - 'नूर' भरा है
'उस' चेहरे का तपता-बुझता
दर्पण सारा - क्रूर भरा है .

मेरी कविता खट्टी- मीठी
शबरी का है बेर
सीता-राम का गुण गाती ये
दुर्गा का है शेर .

आओ हाथ मिला लें हम सब
'एक जाती' हम-भाई
झंडा गाड़ सकें सूरज पर
पार करें हर खांई .

इस कविता में चुन के रख दो
दर्पण ईंट व गंगा पानी
महल बने -धोएं सब चेहरे,
गले मिलें -दुनिया के प्राणी

टिमटिम-तारे -प्यारी चंदा
धूमकेतु संग -राहू-केतु हैं
मलयागिरि की मस्त हवाएं
अंधड़ उजाड़ - तूफ़ान भरा है

कविता है संगीत-सुरमई
भैरव-ताल-मृदंग भरा है
खुश्बू है कलियों फूलों की
समर "पंक' सरोज खिला है

मधुर-माधुरी -रस -पराग है
चंदा -चातक-मद -भौंरे हैं
विषधर-मणि- गोपी -कृष्णा हैं
जीवन -दाई जहर भरा है .

शहनाई -दूल्हा -घोड़ी है ,
अंकुश-चाबुक-विरह -व्यथा है,
दुल्हन सजी -अप्सरा-हंसती
विधवा-व्यथा-'कपाल' भरा है

धीर-धरम-शिव-सत्य भरा है
सत्यम शिवम् सुन्दरम से तो .
धरिस्त-चोर-बदनाम यहाँ है
भ्रष्ट -नीच -चढ़ - मंच खड़ा है .

माँ-ममता -आँचल -मनभावन
बंजर -बाँझ-विदीर्ण- हुआ मन
जलसे -उत्सव-वर्षा -सावन
सूखा पाथर -भूखे का मन .

चूस-चूस रस लेते भौंरे
'तितली' 'सोलह -श्रृंगार' भरा है
इन्द्रधनुष हैं -झूमते बादल
मेरी दुनिया में -"अकाल" बड़ा है.

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२७.०२.२०११ जल पी.बी.
नारी..पतंग..कोयला..घाव बना नासूर ....
to use my all creations in ....one thread ...
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #53  
Old February 26th, 2011, 11:44 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “घाव ” बना नासूर-"जमीन" खोदने वाला - -shuklabhramar -हिंदी &

"जमीन" खोदने वाला -

दोनों के हाथ में 'छूरी'
"मुर्गा" मै हूँ
बीच में पड़ा -एक खिलौना
किसी का पाला
आँखों का नूर .

एक तिलक है 'लाल' लगाये
दूजा 'काला' -नाग सरीखा
झंडे दोनों के हाथों में
उसमे छुपा है 'डंडा'
एक 'हथौड़ा'
कील वहीँ -कुछ.

पुलिस बीच में
मूक -खड़ी है
किधर मुड़ जाये
क्या जानू मै .

देखा है गाँव में
जिसकी लाठी उसकी भैंस-
हथौड़ा मारते 'गर्म लोहे' पर-
रोटी सेंकते ' अपनी' - गर्म तवे पर
"भीड़" है - सभी तबके के लोग,
"शामिल" हैं
हाथ में 'फावड़ा' लिए -
जमीन खोदने वाला -
मजदूर - श्रमिक
भेंड़ है भीड़ -पर्यायवाची
किधर भी मुड़ जाये
मशाल है - फायर ब्रिगेड भी
बीच -बीच में चूँ -चूँ करती
अम्बुलेंस -दौड़ती
अहसास करा देती
तरह -तरह की तैयारियां
पूरी हैं ...
उठा कर हमें -लाद ले जाने की
अस्पताल तक
आक्सीजन सिलिंडर में
अगर बची हो
कुछ साँसे - दो बूँद पानी.

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२७.०२.२०११ जल पी.बी.
९.४० मध्याह्न
ek aur kadi ...naari..koyla,patang ke sath .....
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #54  
Old February 26th, 2011, 11:46 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: “पगली ” "परसो" हे तजुर्बेकार - –shuklabhramar –हिंदी पोएम (&

"परसो" हे तजुर्बेकार -
पहले आचार -मिर्ची ???
रोटी -दाल-भात ...
पूड़ी -कचौड़ी-
फिर नमक 'सुपाच्य"

हर चीज की अहमियत है
अपनी 'मांग'
समय पर - समय है बलवान
मिठाई तो सबको पसंद है
हर दिल को भाये
शुरू से अंत तक
क्या वही परसा जाये ???

जो लोगों को आकर्षित करे-
खींच लाये
बाजार गर्म करे -जेब भरे -
लाखों को तिल तिल रुलाये .

कराहते -मरते लोगों को -
परसो तो दावा- सहायता
तमाशा -फोटो -विडिओ
कितना जायज है -भाई बता .

जलते हुए घर में प्यासे को
परसो -पानी
न फोटो -न मिर्च मसाला
हे अज्ञानी .

विश्वास कर लेंगे लोग तेरी
कहानी. जली -राख और
बुझा -चेहरा देख
कैसे लगी आग- और
कैसे बरसा पानी .

बहिष्कृत -उपेक्षित अँधेरे में भटके
दुबके-जीते-कराहते- गोली खाए
लोगों में जीवन -दुआ - प्यार परसो.
घृणा -कलंक -इतिहास -
नफरत न परसो
जेठ की दुपहरी नहीं - सावन सा
झूम झूम बरसो .

पोथी -कुरान -रामायण -बाइबिल
को दूर रख दो
मंदिर में -मस्जिद में -
चर्च -गुरूद्वारे में
ऊँचे रख - शीश झुका -
सबका सम्मान कर दो

तिनका -घोंसला -आश्रय ठिकाना
बीन -बीन -चुन -चुन परसो
बना दो नया मंच
एक "मानव" का "प्रेमी" का
इंसा -इंसानियत का
"पावन" एक यज्ञ करो
"साथ में " बिठा दो
"लंगर" चला दो
मधुर गीत " शहनाई"
थोडा सा चटपट
और इतनी मिठाई
परसो - जो
इन्हें पचे
हे तजुर्बेकार !!.
सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
२७.२.११ जल पी बी
६.५० पूर्वाह्न .
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #55  
Old March 1st, 2011, 10:28 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Re: Patang – hindi poem-bhramar.

'पेट' में 'इनके' -'अपने' सारा "गंगाजल" भर लाऊं
बजटगया
लोक-लुभावन-हर-मनभावन??
जेबहुयी कुछभारी
बीबीबोलीभरलेपैसे
लायेंमनकी साड़ी
मै बोलास्टीलखरीदूं
साबुनसेचमकाऊँ
गहनोंकपड़ोकी दुकानमें
इसकोचलोसजाऊँ
कुछ बेंचू -फिरखाऊँ

बीबी बोली -चुप करपगले
किचेनहमारावही पुराना
मंहगाई - न-जीवन बदले
सोने -गहने सब तो मंहगे
नारी का आभूषण
नेता -नेती सारे दुश्मन
लगते -अब- खर-दूषण !!!

छूट मिली रे -टैक्स पे पगली !
एक साठ -से अब है अस्सी
‘टिकुली’–‘बिंदी’ लाऊं
‘कुछ’ कपडे -पहनाऊँ
उस पैसे से बिउटी- पार्लर
चल तुझको चमकाऊँ

एक लाखका मुंहन देखा
उमरहोगयीपचपन
अभीभीलातेसत्तर -अस्सी
'पी' - खाजाते 'भुक्की' ???



टिकटहुयी नामंहगीजानू
चारों- धामघुमाऊँचल-ना
चल-ना बच्चों कोभी लेकर
"पेट" में उनके -अपने सारा
"गंगा-जल" भर लाऊं.

प्राइमरीसे नर्सरीमें
इनकानामलिखाऊँ
धूलसेदेखो फूल खिलेगा
"वीजा" बाद बनाऊं
तुझको ले फिर -उड़ पाऊंगा
सागर के उस पार.

अमरीका-लन्दन क्या सपना??
कल बूढ़े -घिसते -ना मरना
यहीं रहे -दो रोटी खाए
छू पाऊँ मै कन्धा -दे दे
इतनी भर बस आस.

‘कर्ज’ लिए हम पैदा होते
‘तैंतीस’ -कहें- ‘हजार’
‘कर्ज’ लिए ही मर जाते हैं
क्या तेरी सरकार !!!!!

‘तीन सौ लाख करोड़’ है आना
काला धन -गोरा करना है
पम्प लगे -पक्का घर होगा
चढ़ी "पजेरो" आना द्वार ....

बजट बनाते फिर वो बैठी
रोटी – सूखी – नमक-अचार
खेती -खाद -नहीं -गुड़ -गोबर
रोती रात -हुआ भिनसार

ड्रेस -इग्जाम के पैसे थे कम
बेटी रही कुवांरी- बैठी..
फाड़ फेंक के -पेपर फेंकी
"चंद्रमुखी"होकाली- पीली .
.

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर
१.०३.२०११
जल पी.बी.
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #56  
Old March 2nd, 2011, 07:25 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Thumbs up Patang-dussahas ghanti baja dene ka – hindi poem-shuklabhramar5-Kavita.

"बदनामी -सुनामी " का रूप ले ..

बड़े -बड़े -बोट-शिकारे-नाव
जहाज-भीड़ -जुटती
होड़ थी उन तक -
जा पहुचने की
उनके दरबार में -अपना भी नाम-
लिखा आने की
आज न सही - कभी
दुःख -दर्द में -अँधेरे में
काम आयेंगे
जिनका है बड़ा "नाम"-
बड़ा "काम"!!!

'उन' तक पहुचना
गंगा में जौ बोने सा था -
भूगर्भ में -
गुप्त रहस्य !!!
निरंतर - टकराव
हमारे मन सा -
परतों के पन्नो को -
घिसते -कमजोर कर देते हैं
ला देते - झंझावत - कम्पन
विस्फोट-
ज्वालामुखी !!
सुनामी >>>><<<
और फिर
एक बदनामी -"सुनामी" का
रूप ले -डुबा देती है - नावें
कितनों की - अपनों की
प्यारे दुलारों की
भोले लोगों की -
जो की 'नेक' थे
आते थे मिलने कि
कल मेरा 'अपना' - 'सपना'
गाँव का - दुःख दर्द
हर लेगा -
'हर' लिया उसने
एक दिन - साम्राज्य बना - बनाया
छिपा -छिपाया -डूब गया
और उजागर हो गया
गुप्त -रहस्य
नोटों कि गड्डियां
कुछ "फूले" -लोग -
चेहरा छिपाए- उलटे तैरते
नजर आये !!!
मन की भंड़ास
कुछ कहने की
अन्दर दफ़न किये
एक 'गुप्त -रहस्य' में
शामिल हो गए
और "वो" फूल
गुमसुम - बेजान
उन पर चढ़ने को
तरसता रह गया
इन लहरों से दूर
तट पर - एक हाशिये पर !!

शुक्लाभ्रमर५
२.३.११ जल पी.बी.
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #57  
Old March 3rd, 2011, 07:13 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Thumbs up Re: Patang -pappa aap ka P.T.M. kb ek din to chhutti-shuklabhramar5-kavita-hindi poem

' रॉकेट' सी जिन्दगी-
अपनी -रफ़्तार
अपने भी काबू में नहीं
रिमोट -कंट्रोल्ड
अब तो सब !!
धुवाँ छोड़ते -गरजते
कभी गुमसुम
आसमान -कलेजा चीरते
पता नहीं कहाँ- कब तक
उड़े जा रहे
कब पौधे -जवाँ हो गए
कलियाँ खिलीं
बसंत -पतझड़ आया- गया
घडी की सुई जब तक
न ठहरी -रुकना कहाँ
मरम्मत -मुरम्मत
दरारें -झाड़-झंखाड़
जाला-जंजाल
घेरते जाते -चिकने चेहरे
पर बल -झुर्रियां
पाँव में बेड़ियों से
कसते -शिकंजे
दिन -प्रतिदिन बढ़ते जाते
लेकिन -'जोश' -'मन'
बूढ़ा नहीं होता
ये नूरानी आँखे
प्रेयसी -प्रियतम
कविता -एक सत्य
दिल के टुकड़े -कभी
लटक जाते -गले में
मासूमियत -मधुर अहसास
प्यार की भीनी ख़ुश्बू लिए ..
थोडा और ठहर जाओ न !!!!
कब तक यूं ही दूर ...-जुदाई
सही नहीं जाती
कलेजा तार -तार हो जाता
आँखों से उनके झरते
आंसू बरसने लगते
दूर जाता सावन -
करवा चौथ का व्रत ..
होली -दिवाली -तीज
त्यौहार ..
बेटे ने चूमते- आँखों में आँखें
डाल पूछा -
पप्पा आप का पी.टी.एम्
कब होगा ???
एक दिन तो छुट्टी ..
सबके माँ -बाप मिलेंगे !!
आँखों से झरना मेरे-
फूट पड़ा
चेहरा छिपाए मै मुड़ा
घडी देखा
सुई टिक -टिक बढ़ रही थी
अभी चल रही जब तक
चलना -दूर जाना
बहुत <<<<< दूर
"रॉकेट" सा
पीछे छोड़ते "कुछ"
मै चल पड़ा !!!!
सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर५
३.३.२०११
जल पी. बी.
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #58  
Old March 5th, 2011, 08:47 PM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Thumbs up Re: “पगली सांस छोड़ दो -पेट पचा लो कमर से चिपकी –बा&#

सांस छोड़ दो -पेट पचा लो कमर से चिपकी –बाबा भ्रमर-देव बन जाना

मन में आता
छोड़ -'नवु-करी
मै बाबा -बन जाऊं
दुनिया भर के चेले -'चापर"
लेकर योग सिखाऊँ
बाबा "भ्रमरदेव" बन जाऊं
'पुरुष' बनो -
नारी से तुम भी
सांस छोड़ दो
पेट पचा लो -
कमर से चिपकी
बनहीरो-इन -हीरो नाचो
फीसभरोआ-
नाम लिखा लो
देश -विदेशजहाँभी जाओ
बाबा संगतुम -नाम कमाओ
"पेट नहीं"- पिचका-दिखलाओ
'वो' जबजाने -तुम ना खाते
"पिचकी" -पिचकारी
रंग भरें 'वो' -फूल -फूल
तुम मेरे जैसा
गुब्बारा बन -उड़ते रहना
आसमान में !!
आँख -पलक झपकाते रहना
डरना-ना
"वो" ना -समझें -
आँख-मिला-ना
सम्मोहित कर
सब अपना-ना
बाबा 'भ्रमरदेव' के संग-
संग -प्यारे
देश का अपने
नाम डुबा-ना .
आँखे बंद करा के तेरी
“कंसंट्रेट” सिखाऊँ
भरमाऊँ
झोली अपनी भर के लाऊं

जब “धन” होगा -तो “मन” होगा
“होश” - “जोश” जागेगा
विश्व -गुरुहम-बनजाए-
कलदेशहमारा -
हाँयाना-ना ????
चिल्लाओकुछ -
तालीपीटो-
मूकबनो -ना
“कल”- देखना
वादा अपना –सपना- अपना
हम ना ‘गिरगिट’
रंग न बदलें

सन्यासी हैं
वनवासी हैं
वन में जितने भी राक्षस हैं
दमनकरूँगा -
'इन ' जादूगर “काले” -वालों
से भैया मै
तभी -भिडूंगा
इसी अखाड़े
"नाग-पंचमी' के दिन
सब मिल-“डंडा” लाना
आना- हमको “साहस” देना
“जोश”- जगाना
देख -पटखनी
“खुश” हो - जाना


शुक्लाभ्रमर५
५.३.२०११ जल पी बी
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #59  
Old March 7th, 2011, 03:19 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Thumbs up Re: “घाव, आँखें खोलो- देखो कैसे – “गंगा मैली”- ” बना न&#

आँखें खोलो
देखो कैसे – “गंगा मैली”-
‘लाल’ होरहा- जल यमुना का
बढ़ा जा रहा- चढ़ा जा रहा
जीवन लेता-“काल” सरीखा
अली-"अलि" चिल्लाता-“काला”
भौंरा घूमे -विश्व -बंधु सा
राजा- ढोल बजाता है
कहीं पुजारी-मठाधीश
संग-मंत्री गाना गाता है
"संसद" वहीँ चलाता है
जंगल में भटके लोगों
से बढ़कर हैं 'दो' -'चार'
गुप्तखजाना-अस्त्र-सस्त्रले
करते हम पर “राज”
जो चाहे वो नीति बनाते
नियम तोड़ते -घूमे-बोले
"अपना मूल अधिकार"
"न्याय" तो सोता -कुम्भकर्ण सा
करवट भी गर बदले
धन-धमकी-धर्म-नीति सब

चढ़े-तराजू - "जस्टिस" बदले
बाप मरा -बेटाफिरलड़ता
गठरी बांधे रोज -रगड़ता
बीस साल से -बीस कोस तक
कोर्ट -कचहरी -हर पंचायत !!

भोला मन -अब 'फास्ट- ट्रैक' है
सभी चीज का 'शोर्ट-कट' है
कहीं लाटरी -जुआ दौड़ है
रेस -कोर्स है -दांव लगा है
बड़े लोग-बाजार होड़ है
अन्दर झांको -सभी बिका है
पहचानेचेहरे -'मेरे' -'अपने '
बेंच -खोंच में सभी लगे हैं

आँखें खोलो - देखो कैसे
'कचरा' सारा बाहर आता
"बदबू" से -'मैले' से अपने
कैसे “सब” को गन्दा करता
शुद्ध -परिष्कृत -इसको भाई
कर पावो तो कर डालो ! या
इसे गाड़ दो -नहीं - जलादो
" एक जगहहीमैलाकर ले

मत लावोगंगा-यमुना में
"गाँठ" बाँधके -जोड़ -जोड़ के
ये बहने हैं- माँहै अपनी
यही शारदा -संस्कृति अपनी
श्वेतधरा है …
सदियों से ये खिला 'कमल' है
"कीचड़" में भी !!!!
इन्हें बचा लो
इन्हें बचा लो …
जितनी दूर चले ये 'मैला'
"गंध"-"वायु" सब करे विषैला
‘जानो’ तुम -‘पहचानो’ इसको
"दूषित" –‘दुनिया’ अभी बचा लो
आँखें खोलो
देखो कैसे गंगा मैली
लाल होरहा जल यमुना का
‘बढ़ा’ जा रहा-‘चढ़ा’ जा रहा
जीवन लेता-काल सरीखा

शुक्लाभ्रमर५
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
Reply With Quote
  #60  
Old March 8th, 2011, 05:59 AM
shuklabhramar5's Avatar
shuklabhramar5 shuklabhramar5 is offline
Shuklabhramar5
 
Join Date: Feb 2011
Location: U.P.
Posts: 135
shuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond reputeshuklabhramar5 has a reputation beyond repute
Thumbs up Patang,मै किसकी हूँ ?? गढ़ा था जिसनेप्यार किया या ल&

मै किसकी हूँ ?? गढ़ा था जिसने ??-
प्यार किया या लूट के लाये ??..
कितने सपने
देखे नित- नित
दिवा - रात में
सोच- सोच कर
तब जा के ये
"रूप" बना
ख़ुशी हुआ ' मन '-
'मन' को पा के
फिर उसने ये
' रूप ' गढ़ा
‘ आकृति ’-‘ ढांचा ’
सामग्री -सांचे में ढाला
फिर भी ये -'कंकाल' बना
रंग -बिरंगे परिधानों से
उसने मुझे सजाया
चमकाया –‘श्रृंगार’ किये
‘ जान ’ डाल दी -
घर में मुझे बिठाया
कुछ -दिन !!!
"उस" दिन -जब सबका
"मन" पाया -नया लगा
त्यौहार है आया !!
"डोर" बाँध उसने फिर मेरे
मुझको बड़ा रुलाया
भेज दिया ‘संग’-‘ उसके ’ -
लड़खड़ाते -कदम हमारे
नयी जगह मै आई
लेकिन ‘उड़ने’ लगी - बराबर
"हवा" मै अच्छी पायी
"संगी" मेरा बहुत "कुशल" था
प्यार लुटाता - जी भर
जितना पल - पल - अच्छा करती
ऊँचे चढ़ती !!!
उछल - कूद खुश होता -'अंतर '
नजरें कितने लोग गडाए
बाज -गिद्धसे आड़े आये
किसी बहाने -छू जाने को
‘वो’ टकराए !!!
आकर्षण - श्रृंगार भरा था
चाल अजब मस्तानी
उस पर मेरी
ऊँची "उड़ान" -
सांप लोटता - छाती - जब जब
' तिकड़म ' - 'काट'
लगाते जान !!!
एक अकेली - दूर था साथी
कितना - मै - लड़ पाती
'काट" दिया उसने जब फिर तो
टूटा -बंधन !!
गिरी चली -लडखडाती
पुनः - जमीं मै !!
दिल में “चोट” लिए फिर दौड़ा
साथी - मेरा ‘ प्यारा ’
पल भर में -दूजा भी दौड़ा
' काट '- मुझे जो गिराया
दर्शक उनसे आगे दौड़े
लूट मुझे फिर भागे
कितनो का दिल -टूट गया था
न पाए - न बांटे
मै किसकी हूँ ???
गढ़ा था जिसने ..?
प्यार किया जो ??
जिसने "काट" गिराया
या जो “ बलशाली ”
"लूट - पाट" के
घर अपने ले आया ..???
रोती चली - राह पूरी मै
लिए - अधूरी "सांस"
क्या जानूं -क्या पाउँगी
क्या लिखे - विधाता हाथ ??
'जल" -"जल - ना "
"शीतल" - फिर "उड़ना"
फिर "काटे" –‘वो’ - कई हाथ में
इधर - उधर मै जाऊं
कोई -"कोने"
'अंधकार' में !!!
हो 'विलीन' मै
अपना "अस्तित्व" मिटाऊं

सुरेन्द्रशुक्लाभ्रमर५
८.०१.२०११ जल पी बी
naari , pagli, patang, koyala, bhramar ka dard aur darpan, ras-rang, ghav bana nasoor
__________________
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले

Last edited by shuklabhramar5; March 8th, 2011 at 06:08 AM.
Reply With Quote
Reply

Bookmarks

Tags
koyla-sookhi roti, naari, pagli, patang


Currently Active Users Viewing This Thread: 1 (0 members and 1 guests)
 
Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off
Forum Jump

Similar Threads
Thread Thread Starter Forum Replies Last Post
“Naari”- Bhramar-Hindi kavita (Hindi poem). shuklabhramar5 Poetry 74 June 15th, 2015 06:22 AM
“ Koyla”- Bhramar –Hindi poem shuklabhramar5 Hindi 38 July 18th, 2011 04:22 AM
Pakistan - patang pe ban! alok Hindi 3 May 1st, 2006 12:37 AM


All times are GMT -7. The time now is 09:56 PM.


Powered by vBulletin® Version 3.7.2
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
Site Copyright © eCharcha.Com 2000-2012.